SSD vs HDD in Hindi | कौन अच्छी है?

जब हम डेस्कटॉप या लैपटॉप खरीदने जाते हैं तो हमें storage के दो ऑप्शन मिलते हैं या तो हम SSD ले लें या हम HDD ले लें।

पहले के समय में हमें computers में हमें computers में स्टोरेज के लिए HDD देखने को मिलती थीं और आज भी हमें computers में HDD का ऑप्शन मिल जाता है।

लेकिन आज के समय में SSD बहुत प्रचलित है और यह आज के समय की टेक्नोलॉजी पर आधारित हैं। अक्सर लोग सोचते हैं की SSD अच्छी है या HDD अच्छी है।

यदि आप कंफ्यूज हो रहे हैं तो मैं आपको यह समझाऊंगा की SSD और HDD क्या हैं और इसमें से क्या बेहतर है।

इस पोस्ट में मैं आपको SSD vs HDD in Hindi बताऊंगा।

ssd vs hdd in hindi

SSD और HDD में कौन बेहतर है तो इसका जवाब है SSD. लेकिन इसका कारण क्या है और आपके लिए SSD अच्छी है या HDD अच्छी है, यह मैंने आपको आगे पोस्ट में बताया है।

सबसे पहले यह जानना जरूरी है की SSD और HDD क्या है और इसके पूरे नाम क्या हैं।

यह भी पढ़ें: HTML क्या है और AI क्या है

SSD और HDD क्या है?

SSD और HDD स्टोरेज डिवाइस के प्रकार हैं जिसमें आप तरह तरह का डाटा स्टोर कर सकते हैं।

आप किसी भी स्टोरेज डिवाइस में वीडियो, गाने, डाक्यूमेंट्स, गेम्स आदि तो स्टोर करते ही हैं साथ ही आप operating system को भी स्टोरेज डिवाइस में ही स्टोर करते हैं।

SSD आज की नयी टेक्नोलॉजी पर आधारित है जबकि HDD पुरानी टेक्नोलॉजी पर आधारित है।

हमेशा यह देखा गया है की नयी टेक्नोलॉजी पुरानी टेक्नोलॉजी से बेहतर होती है। इसीलिए SSD नयी टेक्नोलॉजी पर कार्य करती है इसीलिए यह HDD से अच्छी है।

अब हम बात करते हैं SSD और HDD क्या है?

SSD क्या है?

SSD solid state drive

SSD का फुल फॉर्म है Solid State Drive. SSD एक flash memory स्टोरेज डिवाइस है। आसान शब्दों में कहें तो यह चिप टेक्नोलॉजी पर कार्य करती है।

यह बहुत अधिक तेज होती है यदि हम इसकी तुलना HDD से करें। SSD कई तरह की होती हैं जैसे की NADA, NVMe, और M. (M डॉट)

HDD क्या है?

HDD hard disk drive

HDD का फुल फॉर्म है Hard Disk Drive. HDD एक disk mamory स्टोरेज डिवाइस है। आसान शब्दों में कहें तो यह disk टेक्नोलॉजी पर कार्य करती है।

इसमें disk में डाटा स्टोरेज होता है तो डाटा एक्सेस करते समय यह डिस्क घूमती है। क्योंकि डाटा disk में कहीं भी स्टोर हो सकता है। यह एक पुरानी टेक्नोलॉजी है।

क्योंकि disk slow घूमती है इसीलिए यह स्लो कार्य करती है।

SSD vs HDD in Hindi

यह जानने के बाद की SSD और HDD क्या है। अब हम SSD और HDD की तुलना कुछ विषयों पर करेंगे जो की हैं:

  1. Speed (तेजी)
  2. Noise (शोर)
  3. Power Consumption (ऊर्जा की खपत)
  4. Cost (मूल्य)
  5. Capacity (क्षमता)
  6. Reliability (विश्वसनीयता)

तो सबसे पहले बात करते हैं स्पीड के विषय में।

1. Speed (तेजी)

किसी भी स्टोरेज डिवाइस की स्पीड की मापने के लिए read / write speed का उपयोग किया जाता है।

Read speed का मतलब है की वह storage device किसी file को खोलने में कितना समय लेती है। और Write speed का मतलब है की वह storage device किसी file को save करने में कितना समय लेती है।

यदि हम SSD की तुलना HDD से करें तो SSD बहुत अधिक तेज है। SSD read speed के मामले में HDD से 10 गुना तेज है वहीँ write speed के मामले में यह HDD से 20 गुना तेज है।

स्त्रोत: Intel

SSD को games खेलने या video editing के काम के लिए सबसे अच्छा माना गया है वहीँ HDD files को स्टोर करने की लिए अच्छी हैं।

यदि आप HDD से SSD पर जाते हैं तो आप को एक बहुत बड़ा अंतर देखने की मिलेगा स्पीड में। मैंने व्यक्तिगत रूप से इसका अनुभव किया है।

यदि आप speed चाहते हैं मतलब आपका computer (desktop या laptop) बहुत तेज चले, software जल्दी खुलें, windows जल्दी start हो तो आप SSD का उपयोग करें।

विजेता: SSD

2. Noise (शोर)

जब भी हम desktop या laptop का इस्तेमाल करते हैं तो हमें एक शोर सुनाई देता है। यह शोर दो चीजों का होता है एक तो पंखे का और दूसरा HDD का।

HDD में एक disk हमेशा घूमती रहती है इससे हमें एक शोर सुनाई देता है। यह शोर बहुत ही बुरा लगता है। यदि आप headphone या earphone का उपयोग न करें तो video या गाने सुनने का मजा खराब होता है।

लेकिन यदि SSD की बात करें तो SSD में कोई भी चीज नहीं है जो आवाज करे। यदि आपके device में SSD है तो आपको किसी भी तरह का शोर नहीं सुनाई देगा।

मतलब SSD शोर नहीं करती है और HDD शोर करती है।

विजेता: SSD

3. Power (ऊर्जा) की खपत

जिस तरह हमारे शरीर के अंगों को चलाने के लिए ऊर्जा की जरूरत होती है वहीँ Device में लगे किसी भी अंग की चलाने के लिए भी ऊर्जा की जरूरत होती है।

जब desktop या laptop की ऊर्जा मिलती है तो उस ऊर्जा का उपयोग storage device, CPU, GPU, fan, cooler, motherboard, और अन्य के द्वारा किया जाता है और जिससे वह device कार्य करता है।

SSD और HDD भी कार्य करने के लिए power पर निर्भर हैं। दोनों ऊर्जा का उपयोग करती हैं लेकिन SSD को HDD की तुलना में बहुत कम ऊर्जा की जरूरत होती है।

SSD के उपयोग से desktop की power supply और laptop की बैटरी पर कम दवाब पड़ता है जिससे अन्य अंगों को ऊर्जा मिलती है और वह अच्छे से कार्य करते हैं।

यदि आप laptop खरीदना चाहते हैं तो आप उसमें SSD को ही लें क्योंकि laptop में बैटरी होती है। SSD कम ऊर्जा का इस्तेमाल करती है इससे बैटरी की लाइफ बढ़ जाती है और वह कुछ घंटे अधिक चलती है।

विजेता: SSD

4. Cost (मूल्य)

किसी डिवाइस को खरीदना बजट पर बहुत अधिक निर्भर करता है। अगर आपका बजट अधिक है तो आप महंगा डिवाइस खरीद सकते हैं जो की अच्छा होगा लेकिन यदि आपका बजट अधिक नहीं है तो आप सस्ता डिवाइस खरीद सकते हैं जो की महंगे की तुलना में कम अच्छा होगा।

HDD पुरानी technology पर कार्य करती है और इसे बनाने की लागत कम है और अब इसमें कुछ सुधार की गुंजाइस बहुत कम है। इससे इसका मूल्य कम है।

लेकिन यदि SSD की बात करें इसकी कीमत अधिक है। यह नयी technology पर आधारित है। SSD को बनाना महंगा काम है। अभी इसे और बेहतर बनाने के लिए काम हो रहा है जिससे research और devlopment की कीमत भी हमसे ली जाती है।

जिस कीमत में आप 500 GB की SSD ले सकते हैं उसी कीमत में आप 2 TB (2000 GB) की HDD ले सकते हैं।

तो price के हिसाब से HDD सस्ती है इसीलिए HDD विजेता होगी।

विजेता: HDD

5. Capacity (क्षमता)

Storage में capacity का मतलब है की वह storage device कितने data को स्टोर कर सकता है। अगर किसी storage device की capacity 1000 GB है तो वह 1000 GB तक की information / data को स्टोर कर सकता है।

यदि आप SSD खरीदने जाएँ तो आप 120 GB से 4 TB तक की मिल जाएंगी। लेकिन यदि आप HDD खरीदने जाएँ तो आपको 250 GB से 14 TB तक की मिल जाएंगी।

यदि आप HDD लें तो आप कीमत के हिसाब से कम पैसों में अधिक data स्टोर कर सकते हैं। कीमत के हिसाब से capacity की बात करें तो HDD विजेता होगी।

विजेता: HDD

6. Reliability (विश्वसनीयता)

यहां reliability का मतलब है की आप storage device पर कितना भरोशा कर सकते हैं। यहाँ हम दो स्टोरेज डिवाइस की बात कर रहे हैं। तो यहाँ SSD ज्यादा भरोसेमंद है या HDD?

भरोसे का मतलब है की वह खराब तो नहीं होगी और क्या आपका डाटा उसमें सुरक्षित रहेगा।

HDD की टेक्नोलॉजी पुरानी है और इसमें moving parts हैं जिससे इसके खराब होने की दर ज्यादा होती है। इससे HDD की reliability कम हो जाती है।

वहीँ SSD नवीनतम टेक्नोलॉजी पर आधारित है और इसमें कोई भी moving part नहीं होता है। इससे SSD के खराब होने की दर कम हो जाती है। इससे SSD की reliability अधिक हो जाती है।

इसका मतलब है SSD, HDD की तुलना में अधिक सुरक्षित है। तो reliability में SSD विजेता होगी।

विजेता: SSD

कौन जीता?

हमने 6 विषयों पर SSD और HDD की तुलना की। जो की थे speed, noise, power consumption, cost capacity, reliability.

जिसके विजेता यह हैं

विषयविजेता
Speed (तेजी)SSD
Noise (शोर)SSD
Power Consumption (ऊर्जा खपत)SSD
Cost (मूल्य)HDD
Capacity (क्षमता)HDD
Reliability (विश्वसनीयता)SSD

आप देख सकते हैं की 6 में से 4 विषयों में SSD अच्छी रही और 2 में HDD. इसका मतलब है अंतिम विजेता SSD है।

SSD अधिकतर मामलों में HDD से अच्छी है। इसका कारण है इसकी नयी technology. सिर्फ कीमत ही एक ऐंसा कारण है जो की SSD न लेने का अच्छा कारण है।

अब यह जानते हैं की आपको SSD लेनी चाहिए या HDD.

यह भी पढ़ें: Computer की स्पीड कैसे बढ़ाएं, Computer में Whatsapp कैसे चलाएं, 5G क्या है

SSD खरीदें या HDD खरीदें?

हर किसी के लिए SSD सही नहीं है और इसी तरह हर किसी के लिए HDD भी सही नहीं है। यहाँ पर आपकी जरूरत यह तय करती है की आप SSD लेंगे या HDD. तो हम कुछ इन्हीं जरूरतों पर बात करेंगे।

जैसे की सबसे पहले आपको यह जानना है की आप जो desktop या laptop लेने वाले हैं आप उसे किस काम के लिए इस्तेमाल करेंगे जैसे की Typing सीखने के लिए, गेमिंग करने के लिए, software या app devlopment के लिए, प्रोग्रामिंग और आदि।

यदि आप student हैं तो

यदि आप एक student है मतलब जो की school की पढाई करने के लिए computer ले रहा है तो आपको computer की performance से ज्यादा फर्क नहीं पड़ेगा।

आपका काम होगा ब्राउज़र इस्तेमाल करना, Microsoft office सीखना, assignment बनाना।

इन कामों के लिए HDD पर्याप्त है। SSD लेने से आपको performance अच्छी मिलेगी लेकिन यदि आपका budget कम है तो आप SSD न लें क्योंकि SSD की जरूरत आपको नहीं है।

तो आपको HDD लेनी चाहिए।

यदि आप Gaming करना चाहते हैं तो

यदि आप अपने laptop या desktop में gaming करने की सोच रहे हैं तो आपको SSD ही लेनी होगी। HDD भी game को चलाने में समर्थ है लेकिन SSD की तरह नहीं।

यदि आपके computer में HDD है और आप game खेलते हैं तो आपका computer गर्म होगा, शोर करेगा, games अच्छी तरह नहीं चलेंगे, पूरा सिस्टम slow हो जाएगा, और अधिक power का इस्तेमाल करेगा।

वहीँ अगर आपके computer में SSD और आप game खेलते हैं तो आपको HDD के साथ आने वाली कोई भी समस्या नहीं होगी और games और अच्छी तरह से चलेंगे।

आपको SSD लेनी चाहिए।

यदि आप Editing करना चाहते हैं तो

यदि आप video, photo, music editing करना चाहते हैं तो आप adobe photoshop, adobe premiere pro, filmora, sony vegas pro आदि softwares का इस्तेमाल करेंगे।

यह softwares बहुत अधिक heavy हैं और इन्हें अच्छी तरह से चलाने के लिए अच्छे और fast hardware की जरूरत होती है।

SSD आपके पूरे सिस्टम को fast बनाती है इससे software बिना किसी परेशानी के चलते हैं। क्योंकि SSD तेज होती है यह video file का import, export, copy और paste बहुत ही तेज कर देती है।

HDD बहुत slow होती है इससे system तो slow होता ही है साथ ही video editing में import और export भी slow हो जाता है।

आपको SSD लेनी चाहिए।

मतलब यदि आप अपने computer का हल्का फुल्का इस्तेमाल करेंगे तो आप काम HDD से चल जाएगा और यदि आप अपने computer का heavy इस्तेमाल करेंगे तो आपको SSD लेनी होगी।

आपको बस इसी बात पर यह चुनना है की आपको SSD लेनी है या HDD.

इस बात का ध्यान रखें की performance के लिए storage के साथ CPU (processor), GPU, RAM, Power, Cooling, Motherboard आदि भी बहुत बड़ी भूमिका निभाते हैं।

मैंने देखा है की लोग शुरुआत में यह कहते हैं की वह किसी भी तरह का heavy काम अपने computer पर नहीं करेंगे। जबकि कुछ समय लोग computer का heavy इस्तेमाल करने लग जाते हैं।

इसीलिए आप बहुत ही सोच समझ कर SSD या HDD का चुनाव करें।

बजट कम हो तो क्या करें

बजट एक बड़ी समस्या है। यदि आपका बजट अच्छा नहीं तो आप एक चीज कर सकते हैं।

आप एक computer में दोनों का ही उपयोग कर सकते हैं। आप एक कम स्टोरेज वाली SSD का इस्तेमाल windows operating system के लिए कर सकते हैं। आप इसमें अन्य heavy software का इस्तेमाल भी कर सकते हैं।

वहीँ आप अधिक storage वाली HDD का इस्तेमाल images, videos, projects, light softwares आदि को रखने के लिए इस्तेमाल कर सकते हैं।

उदाहरण के लिए आप अपने computer में 250 GB की SSD और 1 TB की HDD का इस्तेमाल कर सकते हैं। SSD में heavy काम होंगे और HDD में light.

निष्कर्ष

तो निष्कर्ष यह है की यदि कीमत को भूल जाएँ तो SSD हर चीज में बेहतर है। यदि आप का बजट अच्छा हो तो आप SSD ही लें चाहे आप कोई heavy काम करें या light.

SSD आपके system को fast करती है, performance को बढाती है, ऊर्जा खपत को कम करती है, शोर नहीं करती है, windows को fast स्टार्ट करती है, laptop का वजन कम करती है। यदि इन चीजों के लिए अधिक पैसे लगें तो इसमें कोई परेशानी नहीं होनी चाहिए।

मैं आपको SSD लेने की सलाह ही दूंगा अब यह आप पर निर्भर करता है की आपके लिए क्या सही है और आपका बजट कितना है।

पोस्ट पढ़ने के लिए धन्यवाद। हमें comment करके बताएं की आपके computer में SSD है या HDD और अपना अनुभव भी शेयर करें।

4 thoughts on “SSD vs HDD in Hindi | कौन अच्छी है?”

  1. hello abhay bhai mera asheesh patel h or me jhansi se hu mene abhi ek new website banyi hai aap meri kuch kar dijiye mujhe smjh nhi aa rha hai use rank kese karaya jata hai

    1. aap content aur seo par dhyaan de. aap on page seo aur technical seo kare aur accha content likhe jismei images ho aur internal aur external links ho. jb aapko results dikhne lage tb aap backlinks par dhyaan den.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top