बिटकॉइन क्या है और बिटकॉइन कैसे खरीदें?

आज bitcoin का हर तरह बोलबाला है और हम देख भी रहे हैं की bitcoin की कीमत बहुत तेजी से बढ़ रही है। Bitcoin गूगल पर अधिक बार search किये गए शब्दों की सूची में भी है।

जिस तरह से bitcoin चर्चा में है लोग जानना चाहते हैं की बिटकॉइन क्या है और यह कैसे काम करता है। Bitcoin की कई अच्छी बातें हैं और कई खराब बातें हैं जिसके हिसाब से आज मैं bitcoin पर चर्चा करेंगे।

आज हम कुछ भी खरीदने के लिए मॉडर्न करेंसी (मुद्रा) का उपयोग करते हैं लेकिन पहले ऐंसा नहीं था।

सबसे पहले लोग चीजों के बदले चीजें बदलते थे लेकिन इसके बाद कई समस्याएं आयीं इसीलिए लोग फिर गेहूं को चीजें खरीदने के लिए इस्तेमाल करने लगे और फिर सोने और चांदी को।

और फिर आज हम रूपए, डॉलर, यूरो आदि से चीजें खरीदते हैं और इन्हीं के बदले चीजें बेचते हैं। लेकिन इन मुद्राओं के साथ भी एक समस्या है और इसका हल bitcoin है।

Bitcoin इस समस्या का हल कैसे है यह मैंने आगे बताया है।

यह पढ़ें: Blogging से पैसे कैसे कमाएं?, Profitable Business Ideas In Hindi

बिटकॉइन क्या है?

bitcoin kya hai

बिटकॉइन एक cryptocurrency है। जिस तरह से रूपए, डॉलर, यूरो, येन आदि है उसी तरह से बिटकॉइन भी है। लेकिन Bitcoin का का कोई भी physical अस्तित्व नहीं है मतलब bitcoin न तो सिक्के के रूप में है और न ही नोट के रूप में।

Cryptocurrency क्या होती है: Cryptocurrency एक digital currency है और इसका अस्तिव्त केवल data के रूप में ही है। Cryptocurrency का सिक्के, नोट, वस्तु के रूप में कोई अस्तित्व नहीं होता है। दुनिया में कई तरह की cryptocurrency हैं जिसमें बिटकॉइन भी शामिल है।

Bitcoin एक digital currency है जोकि data के रूप में है। इसी वजह से बिटकॉइन को लोग universal currency, international currency और future currency कहते हैं।

Bitcoin दुनिया की सबसे safe टेक्नोलॉजी में से एक blockchain technology पर कार्य करती है।

बिटकॉइन किसने और कब बनाया?

Bitcoin को किसने बनाया यह आज भी एक रहस्य है। लेकिन यदि आप गूगल पर सर्च करेंगे तो एक नाम सामने आता है Satoshi Nakamoto.

Bitcoin को January 2008 में बनाया गया था। लोग यह दावा करते हैं की bitcoin को Satoshi Nakamoto ने बनाया जो की एक जापान से हैं।

लेकिन असल में आज भी यह एक रहस्य है की bitcoin किसने बनाया।

Bitcoin कैसे काम करता है?

बिटकॉइन blockchain technology पर कार्य करती है। Blockchain एक system है जो की information को इस तरह से दर्ज करती है की इसे बदलना और दोखा देना नामुमकिन हो जाता है।

Bitcoin के विषय में blockchain technology या system का उपयोग करके transactions की information दर्ज किया जाता है।

हर ट्रांस्जक्शन में एक block होता है। इस block से केवल transaction का समय और कीमत पता चलती है। Bitcoin खरीदने और बेचने वाले की identity गुप्त रहती है।

इससे bitcoin की खामी निकलती है क्योंकि लोग bitcoin का इस्तेमाल गलत तरह की लेन देन करने के लिए करेंगे और किसी को पता नहीं चलेगा की यह लेन-देन किनके बीच हुई।

Blockchain system में दर्ज bitcoin की transaction की information को नहीं मिटाया जा सकता है और न ही बदला जा सकता है।

Blockchain टेक्नोलॉजी की विषेशताएं

  • इसमें दर्ज जानकारी को हटाया और बदला नहीं जा सकता।
  • यह transaction में पारदर्शिता लाती है। (आप चाहें तो bitcoin की live transactions देख सकते हैं)
  • यह transaction को track करना आसान बनाती है।
  • यह transactions को तेज गति से करने और verify करने की सुविधा देती है।

Blockchain technology का उपयोग bitcoin और cryptocurrencies तक ही सीमित नहीं है बल्कि बहुत सी companies द्वारा किया जा रहा है और भविष्य में इससे चुनाव भी कराए जा सकते हैं।

Bitcoin की जरूरत क्यों है?

आज के समय में कुछ खरीदने के लिए और बेंचने के लिए मुद्रा की जरूरत होती है। भारत में रूपए का इस्तेमाल होता है, अमेरिका में डॉलर और यूरोप में यूरो का।

हर देश की अपनी मुद्रा होती है और आप एक देश की मुद्रा से दूसरे देश में खरीददारी नहीं कर सकते हैं। यदि आप भारत से हैं और अमेरिका में कुछ खरीदना है तो आपको रुपयों को डॉलर में बदलना होगा।

इससे कई समस्याएं आती हैं। Bitcoin से फायदा यह होगा की यदि bitcoin का उपयोग payments के लिए होने लगे तो एक ऐंसी करेंसी आ जायेगी जो की पूरी दुनिया में स्वीकार्य हो।

इसके अलावा बिटकॉइन को किसी भी व्यक्ति, देश, संस्था, कंपनी के द्वारा नहीं चलाया जाता है। इससे बिटकॉइन की value सुरक्षित हो जाती है। किसी के कहने से bitcoin की value ख़त्म नहीं हो सकती है।

Bitcoin की कीमत कम ज्यादा कैसे होती है?

bitcoin price graph

आप image में देख सकते हैं की एक bitcoin की कीमत 44 लाख रूपए है लेकिन कुछ समय के पहले एक बिटकॉइन की कीमत 8 लाख रूपए ही थी।

और अभी भी बिटकॉइन की कीमत कम-ज्यादा हो रही है।

सवाल यह है की bitcoin की कीमत कम ज्यादा कैसे होती है तो इसका जवाब है की bitcoin की supply limited है। Demand और supply के कारण इसकी कीमत कम ज्यादा होती है।

यह बिलकुल stocks की तरह ही है जहाँ share की कीमत डिमांड और सप्लाई के हिसाब से तय होती है। अधिक जानने के लिए पढ़ें: Share Market क्या है?

यदि bitcoin खरीदने वाले ज्यादा है बेंचने वालों से तो bitcoin की कीमत बढ़ जायेगी और यदि bitcoin बेंचने वाले ज्यादा है bitcoin खरीदने वालों से तो bitcoin की कीमत कम जायेगी।

बिटकॉइन कैसे खरीदें?

यदि आप bitcoin खरीदना चाहते हैं तो यह बहुत ही आसान है। Internet पर बहुत से mobile apps हैं जिससे की आप bitcoin खरीद सकते हैं।

Bitcoin खरीदने से पहले आप risk को समझ लें। आपके bitcoin खरीदने के बाद यदि bitcoin की कीमत बढ़ती है तो आपको फायदा होगा और यदि आपके बिटकॉइन खरीदने के बाद bitcoin की कीमत कमती है तो आपको नुकसान होगा।

Bitcoin एक digital currency है इसीलिए आप इसे digitally खरीद सकते हैं। आपको किसी bitcoin wallet का इस्तेमाल करके bitcoin खरीद सकते हैं।

यह wallet या bitcoin exchange आपको bitcoin खरीदने और बेचने की सुविधा देते हैं। आपको आधार कार्ड और पैन कार्ड document की जरूरत होगी जिससे की आप KYC कर सकें।

Bitcoin खरीदने और बेचने के लिए मैं CoinSwitch का इस्तेमाल करता हूँ और आपको भी इसी का इस्तेमाल करने की सलाह देता हूँ। यह app बहुत भरोसेमंद है।

bitcoin kaise kharide

यदि आप चाहें तो coinswitch पर आप कुछ भी मिनिटों में account बनाकर bitcoin खरीद और बेंच सकते हैं। आप coinswitch के द्वारा bitcoin के जैसी बहुत सी cryptocurrency खरीद सकते हैं।

Download CoinSwitch

यह पढ़ें: Google Kya Hai

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top